July 14, 2024

#nalanda: नालंदा उद्यान महाविद्यालय के छात्रों ने तालाबंदी कर दिया धरना, स्टूडेंट ने कहा डिग्री वापस करेंगे…जानिए

 

 

 

 

नालंदा उद्यान महाविद्यालय के छात्रों ने तालाबंदी कर दिया धरना, स्टूडेंट ने कहा डिग्री वापस करेंगे, स्थिति पकौड़े बेचने वाली…

बिहार में सरकार की नौकरी देने का दावा हुआ फेल, खुद यहां की ही डिग्री की नहीं है वैल्यू..

जहां बिहार के मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री रोजगार, नौकरी देने की बात करते हैं, तो वही नालंदा जिला मुख्यमंत्री के गृह जिला का बुरा हाल….

 

 

https://youtu.be/jRce2O3mjy0?si=BW9H128zOmRKSWNF

 

 वीडियो देखने के लिए दिए गए ऊपर लिंक को क्लिक करें

 

 

 

 

ख़बरें टी वी : पिछले 13 वर्षो से ख़बर में सर्वश्रेष्ठ..ख़बरें टी वी ” आप सब की आवाज ” …
आप या आपके आसपास की खबरों के लिए हमारे इस नंबर पर खबर को व्हाट्सएप पर शेयर करें…ई. शिव कुमार, “ई. राज” —9334598481..
आप का दिन मंगलमय हो….

 

 

 

 

ख़बरें टी वी : 9334598481 : नालन्दा उद्यान महाविद्यालय नूरसराय के परिसर में छात्रों ने अपनी मांगों को लेकर तालाबंदी कर धरना प्रदर्शन किया। धरना में शामिल लोगो ने बताया कि बिहार कृषि अधीनस्थ सेवा कोटि 1 में उद्यान स्नातक को शामिल करने और बीपीएससी के द्वारा वर्तमान में विज्ञप्ति – 18/ 2024, 20/2024, 21/ 2024 में उद्यान स्नातक को शामिल करने की मांग धरना के माध्यम से किया जा रहा है। नूरसराय से पास आउट छात्रों को  बिहार सरकार से आ रही नौकरियों में उद्यान स्नातक डिग्रीधारियों को कोई जगह नहीं मिल रहा है। इस कारण इस महाविद्यालय के पास आउट व अध्ययनरत छात्रों में काफी मायूसी देखा जा रहा है।

 

 

कई छात्रों का कहना है कि आज तक सुनते थे, की डिग्री लेकर पकोड़ा बेचेंगे। लेकिन आज के समय में जो स्थिति हम लोग की है वह स्थिति इसी तरह की बन गई है। छात्र छात्राओं ने बताया कि उद्यान स्नातकों को कृषि स्नातकों की तरह दर्जा नहीं मिल रहा है। जबकि पूरा कोर्स व सिलेवस दोनों का बराबर है। फिर भी सरकारी नौकरियों में उद्यान स्नातकों के साथ भेद भाव किया जा रहा है। इन समस्याओं को लेकर महाविद्यालय प्रसाशन , विश्व विद्यालय प्रसाशन सहित राज्य सरकार के कृषि विभाग के वरीय पदाधिकारियों व मंत्रियों को भी जानकारी दिया गया है।

 

 

फिर भी अभी तक उद्यान स्नातकों को कोई लाभ नहीं मिल पा रहा है। छात्रों ने बताया कि इस महाविद्यालय के स्थापना से लेकर आज तक करीब 350 छात्र छात्राएं उद्यान स्नातक की डिग्री पाकर पासआउट हुए है। जो दर दर की ठोकर खा रहे है। मौजूदा समय में बिहार सरकार द्वारा बीईओ,एसएडीओ,डिप्टी पीडी, पद के लिए निकली, चयन प्रक्रिया में उद्यान स्नातकों के साथ अनदेखी किया गया है।

 

 

चार साल की पढ़ाई के बाद उद्यान स्नातक की डिग्री छात्रों के लिए पीड़ा बन गयी है। छात्र अपने को ठगा महसूस कर रहे हैं। यदि सरकार के द्वारा उद्यान स्नातकों के लिए जल्द ही कोई ठोस निर्णय नहीं लिया गया तो, इस महाविद्यालय से पासआउट छात्र अपना डिग्री राज्यपाल को वापस करेंगे। साथ ही अध्ययनरत छात्र अपना नामांकन महाविद्यालय को वापस करेंगे। महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. पंचम कुमार सिंह ने बताया कि छात्रों की मांग को विश्व विद्यालय प्रशासन व राज्य सरकार के पास पहुंचा दिया गया है।