July 14, 2024

#nalanda: गर्भवती महिलाओं की प्रसव से पहले चार बार एएनसी जांच जरूरी…. जानिए

 

 

 

 

 

 

 

गर्भवती महिलाओं की प्रसव से पहले चार बार एएनसी जांच जरूरी….

गर्भवती महिलाओं के सेहत के लिए एएनसी जांच जरूरी : डॉ राजीव रंजन सिन्हा…

235 गर्भवतियों की हुई एएनसी जांच…

 

 

 

ख़बरें टी वी : पिछले 14 वर्षो से ख़बर में सर्वश्रेष्ठ..ख़बरें टी वी ” आप सब की आवाज ” …
आप या आपके आसपास की खबरों के लिए हमारे इस नंबर पर खबर को व्हाट्सएप पर शेयर करें…ई. शिव कुमार, “ई. राज” —9334598481.. हमारी मुहिम… नशा मुक्त हर घर …

… बच्चे और नवयुवक ड्रग्स छोड़ें .. जीवन बचाएं, जीवन अनमोल है .. नशा करने वाले संगति से बचे …

 

 

 

 

 

 

 

 

खबरें टी वी: हरनौत (नालंदा) स्थानीय बाजार में स्थित प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व अभियान के तहत गर्भवती महिलाओं के प्रसवपूर्व स्वास्थ्य जांच एवं परिवार कल्याण परामर्श शिविर का आयोजन किया गया। इसमें 235 गर्भवती महिलाओं के प्रसवपूर्व जांच की गई। इसके तहत गर्भवती महिलाओं की ऊंचाई, वजन, हेमोग्लोबीन, मूत्र, ब्लडप्रेशर, डायबिटीज, एचआईवी आदि की जांच की गई।
प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. राजीव रंजन ने कहां की गर्भवती महिला को अपने भोजन में प्रोटीन युक्त तथा आयरन युक्त भोजन को शामिल की सलाह दी। इसके लिए साग,पीले पके फल, दूध, मछली, कलेजी आदि को भोजन में लेना उपयुक्त है। प्रत्येक माह नियमित जांच करने की सलाह दी गई। सुरक्षित जच्चा बच्चा व सुरक्षित भविष्य के लिए यह जांच आवश्यक है। इस अवस्था में गर्भवती महिलाओं को अपने भोजन में सभी पोषक तत्व शामिल करने, नियमित स्वास्थ्य जांच करने, सुरक्षित संस्थागत प्रसव करने, कम से कम 2 घंटे आराम करने की सलाह दी गई। सभी लाभकों को आयरन की गोली सीरप कैल्शियम की गोली दी गई।
वहीं केंद्र के स्वास्थ्य प्रबंधन कृष्ण कुमार मुरारी ने कहा आमतौर पर प्रसव के पहले चार तरह की एएनसी जांच होती है। पहली जांच गर्भधारण के 12वें सप्ताह तक, दूसरी जांच 14वें से 26वें सप्ताह तक, तीसरी 28वें से 32वें सप्ताह तक और अंतिम जांच 34वें से प्रसव होने से पहले तक करा लेनी चाहिए। इस दौरान गर्भवती महिलाओं को जो भी सलाह मिलती है, उसका पालन करना चाहिए।
उन्होंने ने कहा गर्भावस्था के दौरान महिलाओं को शारीरिक और मानसिक रूप से सेहतमंद रहना बेहद जरूरी है। इससे बच्चों का समुचित विकास होता है। लापरवाही से मां व बच्चा दोनों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ता है। रोजाना समुचित आहार और हल्का-फुल्का एक्सरसाइज एवं योग करनी चाहिए। उन्होंने कहा कि गर्भावस्था के दौरान और 3 घंटे के अंतराल में कुछ ना कुछ खाते रहना चाहिए।पौष्टिक युक्त आहार का सेवन करना चाहिए। इसका सेवन लाभकारी है। चिकित्सक से समय-समय पर जांच जरूरी है। मौके पर डॉ अंकिता , डॉ निशी वर्मा , डॉ महेश कुमार , डॉ अश्विनी राय , बीसीएम पंकज कुमार ,एएनएम में कुमारी माधुरी , सुप्रिया , नीतु , रिश्मी , रिनी ,मंजू , रिंकू , पुनम सहित कई लोग मौजूद थे।

 

 

रिपोर्ट हरिओम कुमार