July 22, 2024

बिहार की राजधानी पटना वाहन प्रदूषण जांच अभियान में पकड़े गए वाहनों को दुरुस्त कराकर वाहन मालिकों को फिर से कराना होगा प्रदूषण जांच

 

बिहार की राजधानी पटना वाहन प्रदूषण जांच अभियान में पकड़े गए वाहनों को दुरुस्त कराकर वाहन मालिकों को फिर से कराना होगा प्रदूषण जांच

– परिवहन सचिव संजय कुमार अग्रवाल ने कहा- जांच के लिए एमवीआई द्वारा लगाया जायेगा विशेष शिविर

– शिविर में की जाएगी वाहनों की प्रदूषण जांच, जांच में वाहन फिट होने के बाद ही चलाने की दी जायेगी इजाजत

– तब तक परमिट रहेगा पोस्टपोंड

– सिटी सर्विस बस का कैंसिल होगा परमिट

– अभियान के पांचवें दिन हड़ताली के पास, म्यूजियम के पास, बेली रोड, आयकर गोलंबर पर चार टीम द्वारा वाहनों के प्रदूषण कि की गई जांच

– अभियान के दौरान आॅटो, बस, पिकअप वैन सहित अन्य वाहनों के प्रदूषण की हुई जांच

– कुल 199 वाहनों की हुई जांच, प्रदूषण फेल 35 वाहनों को किया गया जब्त और 65 पर लगा जुर्माना

– जर्जर प्रदूषण फैलाने वाला या अनफिट बसों तथा अन्य वाहनों के परिचालन पर रोक लगाने के लिए संबंधित स्कूल प्रबंधन को दी जाएगी नोटिस
…………………………………….

प्रदूषण फैलाने वाले वाहनों पर कार्रवाई के लिए परिवहन विभाग द्वारा शनिवार को पांचवें दिन भी अभियान चलाया गया। अभियान में कुल 199 वाहनों की जांच की गई, जिसमें 65 वाहनों पर जुर्माना लगाया गया और प्रदूषण फैलाने वाले 35 वाहनों को जब्त किया गया।

पटना के हड़ताली मोड़ के पास, बिहार म्यूजियम के पास और आयकर गोलंबर पर परिवहन विभाग की चार टीम द्वारा वाहनों के प्रदूषण की जांच की गई। मोबाइल पाॅल्यूशन वैन से आॅन स्पाॅट वाहनों की प्रदूषण जांच की गई और जांच में पाॅल्यूशन फेल पाए गए वाहनों को जब्त करने की कार्रवाई की गई। वाहनों को जब्त कर संबंधित थाने को भेज दिया गया।

परिवहन सचिव श्री संजय कुमार अग्रवाल ने कहा कि वाहन प्रदूषण जांच अभियान के दौरान जिन वाहनों का प्रदूषण फेल पाया गया है, उनसभी वाहन मालिकों को वाहन को दुरूस्त कराकर जांच कराना होगा। वाहनों की जांच के लिए विशेष शिविर लगाया जाएगा। शिविर में जांच के बाद वाहन फीट पाए जाने पर ही पुनः वाहन चलाने की इजाजत दी जाएगी।

प्रदूषण को बढ़ाने में जर्जर और 15 साल से अधिक पुराने वाहनों से निकलने वाला धुआं भी एक मुख्य कारक है। लोगों से अपील है कि अपने वाहनों की नियमित रूप से सर्विसिंग कराएं और प्रतिबंधित वाहनों को न चलाएं। वाहन फिट रहेगा तभी वातावरण भी प्रदूषण मुक्त होगा।

प्रदूषण फैलाने वाले वाहनों पर कार्रवाई के लिए आम लोग भी संबंधित वाहनों की फ़ोटो या वीडियो बना कर डीटीओ या एमवीआई के व्हाट्सएप नंबर पर भेज सकते हैं।
इस मोबाइल नंबर पर पटना में प्रदूषण फैलाते वाहनों की फ़ोटो या वीडियो भेज सकते हैं:-
6202751158
9955332202

Other Important News