July 14, 2024

#khabreTv: नारायण औषधि द्वारा वृक्षारोपण और परिंडा वितरण अभियान का आयोजन…जानिए

 

 

 

 

 

 

 

नारायण औषधि द्वारा वृक्षारोपण और परिंडा वितरण अभियान का आयोजन…

 

 

 

 

 

 

ख़बरें टी वी : पिछले 14 वर्षो से ख़बर में सर्वश्रेष्ठ..ख़बरें टी वी ” आप सब की आवाज ” …
आप या आपके आसपास की खबरों के लिए हमारे इस नंबर पर खबर को व्हाट्सएप पर शेयर करें…ई. शिव कुमार, “ई. राज” —9334598481..
आप का दिन मंगलमय हो….

 

 

 

ख़बरें टी वी : 9334598481 : नारायण औषधि, राजस्थान की एक अग्रणी आयुर्वेदिक दवा निर्माता कंपनी ने आज वृक्षारोपण और गर्मी में गर्मी में पक्षियों को पानी पिलाने के लिए परिंडा लगाया गया। इस अवसर पर उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान और बिहार के कई अधिकारी उपस्थित थे।

नारायण औषधि के डायरेक्टर श्री अनिल सिंह ने अपनी पूरी टीम के साथ इस सामाजिक कार्य में भाग लिया। उन्होंने आयुर्वेद में वृक्षारोपण के महत्व पर प्रकाश डाला और कहा कि प्राकृतिक औषधियों का हमारे जीवन में बहुत महत्व है।

**इस अभियान के तहत नीम और पीपल के पौधे लगाए गए।** यह नारायण औषधि प्राइवेट लिमिटेड का पहला CSR कार्यक्रम था। उत्तर प्रदेश से आए आयुर्वेद के अनुभवी RSM जे पी शुक्ला जी ने पूरी टीम को सम्बोधित किया।

**इसके साथ ही कंपनी की एनुअल मीटिंग का भी समापन किया गया।**

**इस अवसर पर श्री अनिल सिंह ने कहा:**

“हमारा मानना ​​है कि पर्यावरण की रक्षा करना हमारा सामूहिक दायित्व है। वृक्षारोपण करके हम न केवल पर्यावरण को बेहतर बना सकते हैं, बल्कि आने वाली पीढ़ियों के लिए भी एक स्वस्थ जीवन सुनिश्चित कर सकते हैं।”

**उन्होंने आगे कहा:**

“आयुर्वेद में प्राकृतिक औषधियों का उपयोग करके कई बीमारियों का इलाज किया जा सकता है। हम लोगों को आयुर्वेद के लाभों के बारे में जागरूक करना चाहते हैं और उन्हें स्वस्थ जीवन जीने के लिए प्रेरित करना चाहते हैं।”

**इस अभियान के तहत नीम और पीपल के पौधे लगाए गए और गर्मी में पक्षियों को पानी पिलाने के लिए परिंडा लगाया गया।**

**नारायण औषधि के बारे में:**

नारायण औषधि राजस्थान की एक अग्रणी आयुर्वेदिक दवा निर्माता कंपनी है। कंपनी उच्च गुणवत्ता वाली आयुर्वेदिक दवाओं का उत्पादन करती है जो विभिन्न प्रकार की बीमारियों के इलाज में प्रभावी हैं।

कंपनी का उद्देश्य लोगों को स्वस्थ जीवन जीने के लिए आयुर्वेद के लाभों के बारे में जागरूक करना और उन्हें प्राकृतिक औषधियों के माध्यम से रोगों का इलाज करने के लिए प्रेरित करना है।