July 14, 2024

#nalanda : नालंदा विश्वविद्यालय में पद्मश्री से सम्मानित आई आई टी दिल्ली के प्रोफेसर किरण सेठ का व्याख्यान… जानिए

 

 

 

 

 

 

नालंदा विश्वविद्यालय में पद्मश्री से सम्मानित आई आई टी दिल्ली के प्रोफेसर किरण सेठ का व्याख्यान…

 

“निष्काम सेवा सदैव से भारत की सामाजिक व्यवस्था और सांस्कृति का अंग है।” – प्रोफेसर किरण सेठ

स्पिक मेके के संस्थापक भारतीय संस्कृति के प्रचार प्रसार के लिए अबतक 12,500 किलोमीटर की साइकिल से यात्रा कर चुके हैं….

 

 

 

 

 

 

ख़बरें टी वी : पिछले 14 वर्षो से ख़बर में सर्वश्रेष्ठ..ख़बरें टी वी ” आप सब की आवाज ” …
आप या आपके आसपास की खबरों के लिए हमारे इस नंबर पर खबर को व्हाट्सएप पर शेयर करें…ई. शिव कुमार, “ई. राज” —9334598481..
आप का दिन मंगलमय हो….

 

 

 

 

ख़बरें टी वी : 9334598481 : नालंदा विश्वविद्यालय ने 16 अप्रैल 2024 को अपने मिनी ऑडिटोरियम में “साइकिल यात्रा, सेवा-भाव और गांधी: और विरासत” विषय पर पद्मश्री प्रोफेसर किरण सेठ द्वारा विशिष्ट व्याख्यान का आयोजन हुआ। प्रोफेसर सेठ ने अपने अनुभव-जन्य ज्ञान को साझा करते हुए गांधीजी के “सादा जीवन और उच्च विचार” के दर्शन का महत्व पर अपने विचार रखे।

40 वर्षों से अधिक समय तक आई आई टी दिल्ली में अध्यापन करने वाले प्रोफेसर सेठ का नालंदा में आगमन उनकी साइकिल यात्रा का एक भाग है जिसे उन्होंने 2022 में कश्मीर से आरंभ किया था। अब तक वे 12,500 किलोमीटर से अधिक दूरी तक साइकिल से यात्रा कर भारत विभिन्न क्षेत्रों का भ्रमण कर चुके हैं। अपने इस एकल साइकिल यात्रा के दौरान उन्होंने देश भर के सैकड़ों शिक्षण संस्थानों में जाकर लाखों युवाओं को भारत के सांस्कृतिक विरासत की गहराइयों के प्रति जागरूक करने का काम किया है।

 

 

प्रोफेसर सेठ ने नालंदा के छात्रों से अपना अनुभव साझा करते हुए कहा कि उनका साइकिल चलाना और उनकी स्वयंसेवा न केवल पर्यावरण के लिए लाभकारी हैं बल्कि इस प्रकार की गतिविधियां सादगी-पूर्ण जीवन पद्धति को प्रोत्साहित करती हैं, जो आत्म-अन्वेषण के लिए नितांत आवश्यक हैं। उन्होंने कहा, “निष्काम सेवा सदैव से भारत की सामाजिक व्यवस्था और सांस्कृतिक पहचान का आधारभूत अंग है।” उन्होंने युवाओं में अपने विरासत के प्रति आत्म-गौरव और भारत की विविधतापूर्ण संस्कृति को समृद्ध व संरक्षित करने में गांधीवादी मूल्यों के महत्वपूर्ण भूमिका की बात कही।

 

 

प्रोफेसर सेठ के सम्बोधन के उपरांत नालंदा के कुलपति (अंतरिम) प्रोफेसर अभय कुमार सिंह ने प्रोफेसर किरण सेठ द्वारा पिछले 47 वर्षों से भारतीय सांस्कृति की जड़ों से युवाओं को जोड़ने हेतु किए गए प्रयासों को अतुलनीय बताया। ” प्रोफेसर सिंह ने कहा, “प्रोफेसर किरण सेठ का स्वागत करना हमारे लिए गर्व की बात है। उनका अनुभव और ज्ञान हमारे छात्रों के लिए प्रेरणास्पद है।”
नालंदा के भारतीय एवं अंतर्राष्ट्रीय छात्र इस व्याख्यान से लाभान्वित हुए। प्रोफेसर सेठ के व्याख्यान ने उन्हें आंतरिक चिंतन, व्यक्तिगत विकास और सामुदायिक कल्याण की दिशा में पहल करने की प्रेरणा दी। प्रो. सेठ की चर्चा ने छात्रों को आधुनिक जीवनशैली के विकल्पों और उनके जैविक व सांस्कृतिक संरक्षण के अंतर्संबंध की महत्ता की ओर आकर्षित किया।