July 14, 2024

#bihar nalanda : बोआकॉन -2024 में देशभर के डॉक्टरों ने नई तकनीक और सुविधाओं पर रखे अपने विचार…जानिए

बोआकॉन -2024 में देशभर के डॉक्टरों ने नई तकनीक और सुविधाओं पर रखे अपने विचार…

एंकल, स्पाइन, ऑर्थोस्कोपी और ऑर्थोप्लास्टी समेत कई विषयों पर हुई गहन चर्चा..

बोआकॉन -2024 के दूसरे दिन कई तकनीकी सत्रों में दिए गए प्रेजेंटेशन..

 

 

 

ख़बरें टी वी : पिछले 13 वर्षो से ख़बर में सर्वश्रेष्ठ..ख़बरें टी वी ” आप सब की आवाज ” …
आप या आपके आसपास की खबरों के लिए हमारे इस नंबर पर खबर को व्हाट्सएप पर शेयर करें…ई. शिव कुमार, “ई. राज” —9334598481..
आप का दिन मंगलमय हो….

 

 

 

ख़बरें टी वी : 9334598481 : पटना। राजगीर इंटरनेशनल कन्वेंशन सेंटर में बिहार ऑर्थोपेडिक एसोसिएशन की ओर से आयोजित वार्षिक अधिवेशन बोआकॉन -2024 के दूसरे दिन शनिवार को कई तकनीकी सत्र आयोजित किए गए। इन सत्रों की शुरुआत से पहले पौधों का वितरण कर हरियाली अभियान के लिए लोगों को जागरूक किया गया और गुब्बारा उड़ाकर कार्यक्रम की शुरुआत की गयी। आयोजन समिति के अध्यक्ष डा नरेंद्र कुमार सिन्हा, सचिव डा अरुण कुमार और साइंटिफिक कमिटी के चेयरमैन डा कुमार अमरदीप ने बताया कि अधिवेशन के दूसरे दिन कई तकनीकी सत्र आयोजित किए गए।

 

पहले तकनीकी सत्र में जनरल प्रिंसिपल्स ऑफ फ्रैक्चर ट्रीटमेंट पर चर्चा की गयी। इसमें डा अमूल्या कुमार सिंह, प्रो. एस.एस झा, डॉ. रीता कुमार, डा विकास आगासे, प्रो. मैथ्यू वर्गीज, डा मुकेश जैन और प्रो. अनुपम महाजन ने अलग-अलग मुद्दों पर अपने-अपने प्रेजेंटेशन दिए। इसके बाद एक सीएमई आयोजित किया गया, जिसके संयोजक डा जॉन मुखोपाध्याय थे। इसमें प्रो. बॉबी जॉन, डा जॉन मुखोपाध्याय, विकास अगासे, प्रो. राजीव आनंद आदि ने व्याख्यान दिए।

 

तीसरे सत्र में फूट एंड एंकल विषय पर केस बेस्ड डिस्कशन पर प्रो. अनुपम महाजन, डा जॉन मुखोपाध्याय, डा केएस आनंद और डा राजीव बोहरा ने अपने-अपने विचार रखे। इसके बाद अगला सत्र स्पाइन पर था जिसमें अभन नेने, डा राम, डा वीके सिन्हा, डा गौतम, डा अभिषेक श्राफ, प्रो. महेश प्रसाद, प्रो. प्रभात अग्रवाल ने अपने विचार व्यक्त किए।

 

चौथा सत्र पैडिएट्रिक ट्रॉमा पर था। इसमें डा पीएन गुप्ता, डा रिषभ कुमार और प्रो. रितेश ने व्याखान दिया। इसी तरह एक सत्र ऑर्थोस्कोपी और एक सत्र ऑर्थोप्लास्टी पर आयोजित किया गया। इसमें भी कई विशेषज्ञ डॉक्टरों ने अपने व्याख्यान दिए। इन तकनीकी सत्रों के आयोजन के बाद पेपर प्रेजेंटशन कायर्क्रम हुआ। इसमें कई शोध पत्र पेश किए गए। कार्यक्रम में आयोजन समिति के डा चंदेश्वर प्रसाद, डा अभिषेक कुमार, डा राहुल, डा शशिकांत आदि मौजूद थे। इस तीन दिवसीय अधिवेशन का विधिवत समापन रविवार को होगा।