July 14, 2024

जाने क्या होगा बाबा रे

जाने क्या होगा बाबा रे ,गुरु बृहस्पति 5 नवंबर को बृहस्पति देव धनु राशि में गोचर कर रहे हैं, धनु राशि में गुरु बृहस्‍पति लगभग 5 महीने तक विराजमान रहेंगे, 5 नवंबर 2019, मंगलवार को प्रातः 12 बजकर 03 मिनट पर अपनी राशि धनु में प्रवेश करेंगे और 29 मार्च 2020, रविवार को शाम 07 बजकर 08 मिनट तक इसी राशि में स्थित रहेंगे, लगभग पांच महीने तक बृहस्पति धनु राशि में ही रहेंगे, आइए जानें बृहस्पति के इस गोचर का 12 राशियों पर क्‍या प्रभाव पड़ेगा….

1. मेष- मेष राशि वाले जातकों को गुरु बृहस्‍पति के गोचर से उनके धन में वृद्धि होगी, परिवार में नए मेहमान के आने की प्रबल संभावना है, इस दौरान आपको भाग्य का साथ मिलेगा जिससे राज्य से मान-सम्मान प्राप्त होगा, आपके द्वारा किए गए हर कार्य में सफलता मिलने की संभावना है.।
2. वृषभ- वृषभ राशि के जातकों को गुरु के इस गोचर से राज्य की ओर से कष्ट होगा, इससे मानहानि होगी वहीं आजीविका पर भी संकट आ सकता है, आर्थिक हानि के योग हैं, शोक व भय का वातावरण रहेगा, चोरी की आशंका है।
3. मिथुन- मिथुन राशि वाले जातकों को मानसिक अवसाद व चिंता रहेगी, राज्याधिकारियों से विवाद होगा वहीं धनहानि के योग हैं, आर्थिक नुकसान होगा, संबंधियों व पुत्र से विवाद होगा।
4. कर्क – कर्क राशि वाले जातकों को पुत्र से मतभेद व विवाद होगा, धन की कमी महसूस होगी, कब्ज रोग के कारण कष्ट होगा, शिक्षा व बौद्धिक कार्यों से उच्चाटन रहेगा, पुत्र सुख में कमी आएगी,
5. सिंह – सिंह राशि वाले जातकों को व्यवसाय से लाभ होगा, घर में कार्य संपन्‍न होंगे, लॉटरी इत्यादि से लाभ होगा, बौद्धिक कार्यों में सफलता मिलने के योग हैं।
6. कन्या – कन्या राशि वाले जातकों का मन अशांत रहेगा, आवास से दूर जाना पड़ सकता है, जमीन-जायदाद के मामलों में असफलता प्राप्त होगी, धनहानि की आशंका है।
7. तुला – तुला राशि वाले जातकों को अपने सगे-संबंधियों से विवाद होगा, कार्यस्‍थल पर बाधाएं आएंगी, शारीरिक कष्ट होगा, आर्थिक व व्यवसाय में हानि होगी।
8. वृश्चिक – वृश्चिक राशि वाले जातकों को कुटुम्ब सुख में वृद्धि होगी, धनलाभ होगा, विवाह या पुत्र का जन्म हो सकता है, शत्रु पराजित होंगे, मान-सम्मान में वृद्धि होगी।
9. धनु – धनु राशि वाले जातकों को राजभय के कारण मानसिक अशांति रहेगी, कार्यक्षेत्र में बाधाएं आएंगी, यात्रा में कष्ट होगा, मानहानि होगी. आर्थिक नुकसान होगा।
10. मकर – मकर राशि वाले जातकों को पुत्र से कष्ट होगा, व्यर्थ धनहानि होगी,स्वास्थ्य खराब रहेगा, कलंक लगने के कारण सामाजिक प्रतिष्ठा धूमिल होगी, शारीरिक पीड़ा होगी।
11. कुंभ – कुंभ राशि वाले जातकों को की सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी, शत्रु पराजित होंगे, विवाह व पुत्र जन्म के कारण सुख प्राप्त होगा।
12. मीन – मीन राशि वाले जातकों को पुत्र से कष्ट होगा, कार्यक्षेत्र में बाधाएं आएंगी, पेट रोग के कारण कष्ट होगा, परिश्रम का अपेक्षित लाभ प्राप्त नहीं होगा।
अगर आपकी कुंडली में बृहस्पति कमज़ोर है तो,

आप बृहस्पति देव को छोटे-छोटे उपायों के ज़रिए प्रसन्न कर सकते हैं, जैसे..

शिव सहस्रनाम स्तोत्र का जाप करें|

पीला व क्रीम रंग के कपड़े पहन सकते हैं|

गुरु, ब्राह्मण और अपने से बड़े लोगों का सम्मान करें|

भगवान शिव और वामन देव की आराधना करें|

बृहस्पतिवार के दिन व्रत रखें|

केसरिया रंग, हल्दी, स्वर्ण, चने की दाल, वस्त्र, कच्चा नमक, शुद्ध घी, पीले पुष्प और किताबें) को बृहस्पतिवार के दिन दान करें

बृहस्पति बीज मंत्र ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं सः गुरुवे नमः!! का जाप करें|